ShayariInfinity

mohabbat-shayari-प्यार-मोहब्बत-आशिकी

Mohabbat Shayari


Mohabbat Shayari

Mohabbat or Love is a feeling without which there is no meaning in living life. whatever we do in our life until we don’t love with that we can’t succeed in it. it is a language that everyone in this universe can understand. A language that doesn’t have a vocabulary however even can be understood by any kind of being.

In this article, you will find the best collection of Mohabbat Shayari मोहब्बत शायरी, Mohabbat Shayari in Hindi, romantic Mohabbat Shayari, Ishq Shayari, Love Shayari and much more.

मोहब्बत शायरी

टूट जाते हम भी पत्थर की तरह

अगर तुम्हारी मोहब्बत ने हमे सभाला न होता


तुम्हें देखते हैं तो दिल में ऐसी दस्तक होती है,

जैसे सागर में लहरों की हलचल होती है,

सोचा था कभी तुम्हें बता ना पाएंगे,

इन आँखों में तुम्हारी सूरत हर पल होती है।


प्यार मोहब्बत आशिकी.ये बस अल्फाज थे.

मगर.. जब तुम मिले तब इन अल्फाजो को मायने मिले

mohabbat-shayari-प्यार-मोहब्बत-आशिकी

mohabbat shayari in hindi

अपने होठों पर सजा कर तुझे मैं,

तेरे ही गीत गाना चाहता हूँ,

जल कर बुझ जाना हमारी किस्मत में सही,

बस एक बार रोशन होना चाहता हूँ।


ख्वाइश तो यही है कि तेरे बाँहों में पनाह मिल जाये,
शमा खामोश हो जाये और शाम ढल जाये,
प्यार तू इतना करे कि इतिहास बन जाये,
और तेरी बाँहों से हटने से पहले शाम हो जाये.


ना जाने मुहब्बत में कितने अफसाने बन जाते है

शमां जिसको भी जलाती है वो परवाने बन जाते है

कुछ हासिल करना ही इश्क कि मंजिल नही होती

किसी को खोकर भी कुछ लोग दिवाने बन जाते है

Mohabbat Shayari

इतनी मोहब्बत ना सिखा ऐ ख़ुदा

कि तुझसे ज़्यादा उसपे ऐतबार हो जाए,

दिल तोड़ के जाए वो मेरा

और तू मेरा गुनाहगार हो जाए।

Mohabbat Shayari

mohabbat ki shayari

पहली मोहबत के लिए दिल जिसे चुनता है , वो अपना हो न हो

दिल पर राज़ उसी का रहता है।


मोहब्बत की आजमाइश दे दे कर थक गया हूँ ऐ खुदा.

किस्मत मेँ कोई ऐसा लिख दे.जो मौत तक वफा करे.

Mohabbat Shayari

दूर रहकर भी मेरे क़रीब हो,

मेरे दिल से पूछो कितने अज़ीज़ हो,

अपनी हथेली को कभी गौर से देखना,

खुद जान जाओगे कि तुम मेरा नसीब हो।


romantic mohabbat shayari

खूबसूरत सा एक पल किस्सा बन जाता है,
जाने कब कौन ज़िंदगी का हिस्सा बन जाता है,
कुछ लोग ज़िंदगी में मिलते हैं ऐसे,
जिनसे कभी ना टूटने वाला रिश्ता बन जाता है..


वो जिस दिन करेगा याद मेरी मोहब्बत को

रोयेगा बहुत खुद को बेवफा कह कर


कदमों की दूरी से दिलो के फासले नहीं बढ़ते,

दूर होने से एहसास नहीं मरते,

कुछ कदमों का फासला ही सहीं हमारे बीच,

लेकिन ऐसा कोई पल नहीं जब हम आपको याद नहीं करते।

Mohabbat Shayari

mohabbat bhari shayari

अगर है यकीं तो कर लो क़ुबूल प्यार हमारा,

ये वो किताब है जिसे अल्फ़ाज़ों में बयां नहीं कर सकते हम


उतर जाते है दिल मे कुछ लोग इस कदर

उनको निकालो तो जान निकल जाती है


तू नाराज न रहा कर तुझे वास्ता है खुदा का,

एक तेरा ही चेहरा खुश देख कर तो हम अपना गम भुलाते है..!


shayari mohabbat

क्या पता था कि मोहब्बत ही हो जायेगी,

हमें तो बस तेरा मुस्कुराना अच्छा लगा था


बहुत रोका लेकिन रोक ही नहीं पाया, 

मुहब्बत बढ़ती ही गयी मेरे गुनाहों की तरह

Mohabbat Shayari

कौन कहता है की अलग -अलग रहते है हम और तुम,

हमारी यादो के सफर मे हमसफर हो तुम,

ज़िन्दगी से बेखबर है हम,

हमारे दिल मे बसी इस कदर हो तुम..


तुम्हें कितनी मोहब्बत है मालूम नहीं,

मुझे लोग आज भी तेरी कसम दे कर मना लेते है।

Mohabbat Shayari

ना हीरो की तमन्ना है और ना परियो पे मरता हूँ 

वो एक भोली सी लड़की है जिससे मे मोहब्बत करता हूँ


न जाने कोन कोन से विटामिन है तुझमें

जब तक तेरा दीदार न करलु

बैचनी सी रहती है मुझमे ..!


मोहब्बत की इन्तिहां न पूछिये,

इस प्यार की वजह न पूछिये,

हर सांस मे समाये रहते हो,

हां बसे हो तुम जगह न पूछिये


दुःख में ख़ुशी की वजह बनती है मोहब्बत

दर्द में यादों की वजह बनती है मोहब्बत

जब कुछ भी अच्छा ना लगे हमें दुनिया में

तब हमारे जीने की वजह बनती है मोहब्बत


तुम्हें देखते हैं तो दिल में ऐसी दस्तक होती है,

जैसे सागर में लहरों की हलचल होती है,

सोचा था कभी तुम्हें बता ना पाएंगे,

इन आँखों में तुम्हारी सूरत हर पल होती है।


sad mohabbat shayari

खामोश मोहब्बत की एहसास है वो,

मेरे ख्वाहिश मेरे जज्बात हैं वो,

अक्सर ये ख्याल आता है दिल में,

मेरी पहली खोज और आखरी तलाश है वो।


मिलने को तो दुनियाँ मे कई चेहरे मिले

पर तुझ सी मोहब्बत तो हम खुद से भी ना कर पाये


जहर से अधिक खतरनाक हैं यह प्यार

जो भी चख ले मर मर के जीता हें

उतर जाते है दिल मे कुछ लोग इस कदर

उनको निकालो तो जान निकल जाती है


किसी के प्यार को पा लेना ही मोहब्बत नहीं होती है ।
किसी के दूर रहने पर उसको पल पल याद करना भी मोहब्बत होती हे


नज़रे करम” मुझ पर इतना न कर,

की तेरी मोहब्बत के लिए बागी हो जाऊं,

मुझे इतना न पिला इश्क़-ए-जाम की,

मैं इश्क़ के जहर का आदि हो जाऊं।


khuda aur mohabbat shayari

मोहब्बत भी अजीब चीज बनायीं खुदा तूने,

तेरे ही मंदिर में,

तेरी ही मस्जिद में,

तेरे ही बंदे,

तेरे ही सामने रोते हैं,

तुझे नहीं, किसी और को पाने के लिए.


कभी आसूं तो कभी खुशी देखी,

हमने अक्सर मजबूरी और बेकसी देखी,

उनकी नाराजगी को हम क्या समझे,हमने खुद कि तकदीर की बेबसी देखी..


ऐसा सहारा बनेंगे तुम्हारा कि

कभी टूट ना पाओगे।

और इतना चाहेंगे तुम्हें कि

कभी रूठ ना पाओगे।


मेरी महोब्बत के अपने ही उसुल है.

तुम करो न करो पर मुझे साँसो के टुटने तक रहेगी.


जो एक बार दिल में बस जाये उसे हम निकाल नहीं सकते,

जिसे दिल अपना बना ले उसे फिर कभी भुला नहीं सकते,

वो जहाँ भी रहे ऐ खुदा हमेशा खुश रहे,

उनके लिए कितना प्यार है हमें ये कभी हम जता नहीं सकते..


राज़ खोल देते हैं नाजुक से इशारे अक्सर,

कितनी खामोश मोहब्बत की जुबान होती है।


बड़ा गजब किरदार है मोहब्बत का,

अधूरी हो सकती है मगर ख़तम नहीं !!


बारिश की बूंदे हमें भिगोने लगी हैं,

दिल में यादों का हार पिरोने लगी हैं,

सताती है हर पल तुम्हारी ही कमी,

तुम्हारे दिल की धड़कन अब हमें महसूस होने लगी हैं


जीना मरना हो साथ तेरे

कभी सांस न तुझसे जुदा हो..

तुझे मोहब्बत अपनी मैं बोल सकूँ

तुझपे इतना तो मेरा हक़ हो..


मुहब्बत में झुकना कोई अजीब बात नहीं,

चमकता सूरज भी तो ढल जाता है चाँद के लिए !!


हकीक़त कहो तो उनको ख्वाब लगता है

शिकायत करो तो उनको मजाक लगता है…

कितने सिद्दत से उन्हें याद करते है और एक वो है ….

जिन्हें ये सब इत्तेफाक लगता है…


सिर्फ इशारों में होती महोब्बत अगर,

इन अलफाजों को खुबसूरती कौन देता?

बस पत्थर बन के रह जाता ‘ताज महल’

अगर इश्क इसे अपनी पहचान ना देता.


कमाल की मोहब्बत थी उसको हम से

अचानक ही शुरू हुई और बिन बतायें ही ख़त्म


सौदा कुछ ऐसा किया है तेरे ख़्वाबों ने मेरी नींदों से..,

या तो दोनों आते हैं या कोई नहीं आता..


अंदाज-ऐ-प्यार तुम्हारी एक अदा है..

दूर हो हमसे तुम्हारी खता है..

दिल में बसी है एक प्यारी सी तस्वीर तुम्हारी..

जिस के नीचे ‘आई मिस यू’ लिखा है..


मोहब्बत करने में चंद लम्हे लगते है !

चोट खा कर भूलने में पूरी जिन्दगी लग जाती है !!


जज़्बात बहकता है, जब तुमसे मिलता हूँ

अरमां मचलता है, जब तुमसे मिलता हूँ,

हाथों से हाथ और होठों से होंठ मिलते हैं,

दिल से दिल मिलते हैं, जब तुमसे मिलता हूँ…!


हुआ जब इश्क़ का एहसास उन्हें;

आकर वो पास हमारे सारा दिन रोते रहे;

हम भी निकले खुदगर्ज़ इतने यारो कि;

ओढ़ कर कफ़न, आँखें बंद करके सोते रहे।


काश कही से मिल जाते वो अल्फ़ाज़ हमे भी जो 

तुझे बता सकते की हम शायर कम तेरे आशिक ज्यादा है !!


प्यार मोहब्बत चाहत इश्क़ जिन्दगी उल्फ़त

एक तेरे आने से कितना बदल गई किस्मत


फूँक डालूँगा किसी रोज़ ये दिल की दुनिया

ये तेरा ख़त तो नहीं है कि जला भी न सकूँ !


मोहब्बत की मंजिल आसान नहीं है !

इससे ऊंचा कोई आसमान नहीं है !

भटकते हैं वह जो बेवफाई करते हैं !

दिल में जिनके प्यार का अरमान नहीं है !!


mohabbat shayari 2 lines

दिल में छुपा रखी है मोहब्बत तुम्हारी ख़जाने की तरह

बताते नहीं किसी को भी कि कहीं शोर ना मच जाए


बहुत थे मेरे भी इस दुनिया मेँ अपने

फिर हुआ इश्क और हम लावारिस हो गए !


एक चाहत थी तेरे साथ जीने की !

वरना मोहब्बत तो किसी से भी हो सकती थी !!


जिस्म से होने वाली मोहब्बत आसान होती है

और रूह से हुई मोहब्बत को समझने में जिंदगी

गुजर जाती है


ek tarfa mohabbat shayari

कभी ये दुआ कि उसे मिलें जहाँ की खुशियाँ,

कभी ये खौफ कि वो खुश मेरे बगैर तो नहीं।


More Shayari: Love Shayari

छुपा लूंगा तुझे इसतरह से बाहों में,

हवा भी गुज़रने के लिए इज़ाज़त मांगे,

हो जाऊं तेरे इश्क़ में मदहोश इस तरह,

कि होश भी वापस आने के इज़ाज़त मांगे.


चली आती है तेरी याद मेरे जहन में अक्सर !

तुझे हो ना हो तेरी यादो को जरूर मुझसे मोहब्बत है !!


अब उसके साथ रहूँ या फिर उस से किनारा कर लूँ,

जरा ठहर जा ऐ दिल मैं ये फैसला दोबारा कर लूँ।


उसकी आँखों में मोहब्बत की चमक आज भी है

हालांकि उसे मेरी मोहब्बत पर शक आज भी है

नाव में बैठ कर धोये थे,हाथ उसने कभी

पूरे तालाब में मेहंदी की महक आज भी है

छू तो नहीं पाया उसे प्यार से कभी

पर मेरे होठों पर उसके होठों की झलक आज भी है

हर बार पूछते हैं,हमारी चाहत का सबब

वैसी ही इश्क की ये परख आज भी है

नहीं रह पते वो भी हमारे बिना

दोनों तरफ इश्क की दहक आज भी है


खुदा करे कि एक ऐसा दिन आ जाए,

हम तुम्हारी बाहों में खो जाएँ,

सिर्फ हम हो और तुम हो,

और समय वही सो जाए।


हसरत है सिर्फ तुम्हें पाने की !

और कोई ख्वाहिश नहीं इस दीवाने की !

शिकवा मुझे तुमसे नहीं खुदा से है !

क्या ज़रूरत थी,तुम्हें इतना खूबसूरत बनाने की !!

Mohabbat Shayari

वादो से बंधी जंजीर थी जो तोड दी मैँने

अब से जल्दी सोया करेंगे , मोहब्बत छोड दी मैँने


मोहब्बत को हद से गुजर तो जाने दो,

वो रोयेंगे जरूर हमे बिखर तो जाने दो,

अभी ज़िंदा हैं तो एहसास नहीं उनको,

रो कर पुकारेंगे हमे एक दफा मर तो जाने दो।

Mohabbat Shayari


Don`t copy text!