ShayariInfinity

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  • 3
  •  
  •  
  •  
  •  
    3
    Shares

Table of Contents

Maut Shayari

अंदर से तो कब के मर चुके है हम

ए मौत तू भी आजा लोग सबूत मांगते हैं।

Andar Se To Kab Ke Mar Chuke Hai Ham

Ai Maut Tu Bhi Aaja, Log Saboot Maangte Hain.


जब जान प्यारी थी तब दुश्मन हजार थे,

अब मरने का शौक है तो कातिल नहीं मिलते।

maut shayari

Jab Jaan Pyaari Thi Tab Dushman Hazaar The,

Ab Marne Ka Shauk Hai To Qatil Nahi Milte.


Maut Shayari In Hindi

उसकी नजरों के सामने मेरी मौत हो ऐ खुदा,

और मुझे छूने का हक बस सिर्फ उसे ना हो।

Uski Najron Ke Saamne Meri Maut Ho Ai Khuda,

Aur Mujhe Chhoone Ka Hak Bas Sirf Use Na Ho.

-Maut Shayari

एक दिन हम भी कफ़न ओढ़ जायेंगे,

सब रिश्ते इस जमीन के तोड़ जायेंगे,

जितना जी चाहे सता लो मुझको,

एक दिन रोता हुआ सबको छोड़ जायेंगे।

Maut Shayari

Ek Din Hum Bhi Kafan Odh Jayenge,

Sab Rishte Iss Jameen Se Tod Jayenge,

Jitna Jee Chaahe Sataa Lo Mujhko,

Ek Din Rota Huya Sabko Chhod Jayenge.


क्या कहूँ तुझे… ख्वाब कहूँ तो टूट जायेगा,

दिल कहूँ, तो बिखर जायेगा।

आ तेरा नाम ज़िन्दगी रख दूँ,

मौत से पहले तो तेरा साथ छूट न पायेगा।

-Maut Shayari
Maut Shayari

Kya Kahun Tujhe… Khwab Kahun To Toot Jayega,

Dil Kahun, To Bikhar Jaayega.

Aa Tera Naam Zindagi Rakh Doon,

Maut Se Pahle To Tera Saath Chhoot Na Payega.


एक दिन निकला सैर को मेरे दिल में कुछ अरमान थे,

एक तरफ थी झाड़ियाँ… एक तरफ श्मशान थे,

पैर तले इक हड्डी आई उसके भी यही बयान थे,

चलने वाले संभल कर चलना हम भी कभी इंसान थे।

Ek Din Nikla Sair Ko Mere Dill Main Kuch Armaan The

Ek Taraf Thi Jhadiyan.. Ek Taraf Shamshaan The,

Paair Talle Ik Haddi Aayi Uske Bhi Yhi Byaan The,

Chalne Vale Sambhal Kar Chalna Hum Bhi Kabhi Insaan The.

-Maut Shayari

तुम मेरी कब्र पे रोने मत आना,

मुझसे प्यार था ये कहने मत आना,

दर्द दो मुझे जब तक दुनिया में हूँ,

जब सो जाऊं तो मुझे जगाने मत आना।

Maut Shayari

Tum Meri Qabr Pe Rone Mat Aana,
Mujhse Pyar Tha Ye Kehne Mat Aana,
Dard Do Mujhe Jab Tak Duniya Mein Hoon,
Jab So Jaaun To Mujhe Jagane Mat Aana.


मेरे इश्क में कशिश तो बहुत है,

मगर वो पत्थर दिल पिघलता नहीं,

मिले खुदा तो माँगूंगी उसको,

लेकिन ख़ुदा मरने से पहले मिलता नहीं।

Maut Shayari

Mere Ishq Mein Kashish To Bahut Hai,

Magar wo Patthar Dil Pighalta Nahin,

Mile Khuda To Mangungi Usko,

Lekin Khuda Marne Se Pahale Milta Nahin.


Death Shayari

आसमान के परे मुकाम मिल जाए,

खुदा को मेरा ये पैगाम मिल जाए,

थक गयी है धड़कनें अब तो चलते चलते,

ठहरे सांसे तो शायद आराम मिल जाए।

-Maut Shayari

Aasmaan Ke Pare Mukaam Mil Jaye,

Khuda Ko Mera Ye Paigaam Mil Jaye,

Thak Gayi Hai Dhadkne Ab To Chalte Chalte,

Thehre Sansen To Shayad Aaram Mil Jaye..


यूँ तो हादसों में गुजरी है हमारी ज़िन्दगी,

हादसा ये भी कम नहीं कि हमें मौत न मिली।

Yun To Haadson Mein Gujri Hai Humari Zindagi,

Haadsa Ye Bhi Kam Nahi Ki Humein Maut Na Mili.


चैन तो छिन चुका है अब बस जान बाकी है,

अभी मोहब्बत में मेरा इम्तेहान बाकी है,

मिल जाना वक़्त पर ऐ मौत के फ़रिश्ते,

किसी को गिला है किसी का फरमान बाकी है।

Maut Shayari

Chain To Chhin Chuka Hai Ab Bas Jaan Baki Hai,

Abhi Mohabbat Mein Mera Imtehan Baki Hai,

Mil Jana Waqt Par Ai Maut Ke Farishte,

Kisi Ko Gila Hai Kisi Ka Farmaan Baki Hai.


Shayari On Maut And Zindagi

लिया हो जो न आपने ऐसा कोई इम्तिहान न रहा,

इंसान आखिर मोहब्बत में इंसान न रहा,

है कोई बस्ती जहाँ से न उठा हो जनाज़ा दीवाने का,

आशिक की कुर्बत से महरूम कोई कब्रिस्तान न रहा।

More Shayari : Two-Line Shayari

Liya Ho Jo Na Aapne Aisa Koi Imtehaan Na Rha,

Insaan Aakhir Mohabbat Main Insaan Na Rha,

Hai Koi Basti Jahan Se Na Utha Ho Jnaaza Deewane Ka,

Aashiq Ki Kurbat Se Mehrum Koi Kabristaan Na Rha


किसी दिन तेरी नजरों से दूर हो जायेंगे हम,

दूर फिजाओं में कहीं खो जायेंगे हम,

मेरी यादों से लिपट कर रोने लगोगे,

जब ज़मीन को ओढ़ कर सो जायेंगे हम।

Kisi Din Teri Najron Se Door Ho Jayenge Hum,

Dur Fizaon Mai Kahin Kho Jayenge Hum,

Meri Yaadon Se Lipat Kar Rone Aaoge Tum,

Jab Zamin Ko Odh Kar So Jayenge Hum.


तुम दर्द भी हो मेरा और दर्द की दवा भी हो,

मेरी मौत का कारण भी हो तुम, जीने की वजह भी हो,

खुली नज़रो से तुम दूर हो बहुत मुझसे,

बंद आँखों में हर जगह मेरे पास भी हो तुम।

Tum Dard Bhi Ho Mera Aur Dard Ki Dawa Bhi Ho,

Meri Maut Ka Karan Bhi Ho Tum, Jeene Ki Vajah Bhi Ho,

Khuli Nazro Se Tum Door Ho Bahut Mujhse,

Band Ankhon Me Har Jagah Mere Paas Bhi Ho Tum.


मिट्टी मेरी कब्र से उठा रहा है कोई,

मरने के बाद भी याद आ रहा है कोई,

ऐ खुदा कुछ पल की मोहलत और दे दे,

उदास मेरी कब्र से जा रहा है कोई।

Mitti Meri Kabr Se Utha Rha Hai Koi,

Marne Ke Baad Bhi Yaad Aa Rha Hai Koi,

E Khuda Kuch Pal Ki Mohlat Aur De De

Udas Meri Kabr Se Jaa Rha Hai Koi


Maut Shayari 2 Lines

लम्बी उम्र की दुआ मेरे लिए न माँग,

ऐसा न हो कि तुम भी छोड़ दो और मौत भी न आये।

Lambi Umar Ki Duaa Mere Liye Na Maang,

Aisa Na Ho Ki Tum Bhi Chhod Do Aur Maut Bhi Na Aaye.


मौत की वादियों से,

मैं कभी खुद को बचा तो न पाऊँगी,

पर जब तक चली साँसे,

कसम तेरी ये मोहब्बत निभाऊंगी।

Maut Ki Wadaiyon Se,
Main Kabhi Khud Ko Bacha To Na Paaungi,
Par Jab Tak Chali Saanse,
Kasam Teri Ye Mohabbat Nibhaungi.


अब मौत से कह दो कि नाराज़गी खत्म कर ले,

वो बदल गया है जिसके लिए हम ज़िंदा थे​।

Ab Maut Se Keh Do Narajgi Khatm Kar Le,

Woh Badal Gaya Hai Jiske Liye Hum Zinda The.


कल अगर फुर्सत न मिली तो क्या होगा,

इतनी मोहलत न मिली तो क्या होगा,

रोज़ कहते हो कल मिलेंगे कल मिलेंगे,

कल ये आँखे न खुली तो क्या होगा।

Kal Agar Fursat Na Mili Toh Kya Hoga,

Itni Mohlat Na Mili Toh Kya Hoga,

Roj Kahte Ho Kal Milenge Kal Milenge,

Kal Ye Aankhein Na Khuli To Kya Hoga.


तेरी ही जुस्तजू में जी लिया इक ज़िंदगी मैंने,

गले मुझको लगाकर खत्म साँसों का सफ़र कर दे।

Teri Hi Justjoo Mein Ji Lee Ek Zindagi Maine,

Gale Mujhko Lagakar Khatm Saanso Ka Safar Kar De.


इक तुम हो जिसे प्यार भी याद नहीं,

इक में हूँ जिसे और कुछ याद नहीं,

ज़िन्दगी मौत के दो ही तो तराने हैं,

इक तुम्हें याद नहीं इक मुझे याद नहीं।

Ik Tum Ho Jise Pyar Bhi Yaad Nahi,

Ik Mein Hun Jise Or Kuch Yaad Nahi,

Zindagi Maut Ke Do Hi To Tarane Hain,

Ik Tume Yaad Nahi Ik Mujhe Yad Nahi.


मैं अब सुपुर्दे ख़ाक हूँ मुझको जलाना छोड़ दे,

कब्र पर मेरी तू उसके साथ आना छोड़ दे,

हो सके गर तू खुशी से अश्क पीना सीख ले,

या तू आँखों में अपनी काजल लगाना छोड़ दे।

Main Ab Supurde-Khaak Hun Mujhko Jalana Chhod De,

Qabr Par Meri Tu Uske Saath Aana Chhod De,

Ho Sake Gar Tu Khushi Se Ashq Peena Seekh Le,

Ya Tu Aankhon Mein Apni Kajal Lagana Chhod De.


मोहबत की हर गली गुमनाम क्यों है,

जुदाई और मौत इश्क का अंजाम क्यों है,

लोग देते हैं नाम इसे पाकीज़गी का,

तो ये मोहब्बत इतनी बदनाम क्यों है।

Mohabat Ki Har Gali Gumnaam Kyu Hai,

Judai Or Maut Ishq Ka Anjaam Kyu Hai,

Log Dete Hain Naam Ise Paakeezgi Ka,

To Ye Mohabbat Itni Badnaam Kyu Hai.


तू बदनाम ना हो इसलिए जी रहा हूँ मैं,
वरना मरने का इरादा तो रोज होता है।

Tu Badnaam Na Ho Isliye Jee Raha Hun Main,

Varna Marne Ka Irada Toh Roj Hota Hai.


इतनी शिद्दत से चाहा उसे की खुद को भी भुला दिया,
उनके लिए अपने दिल को कितनी ही बार रुला दिया,
एक बार ही ठुकराया उन्होंने,
और हमने खुद को मौत की नींद सुला दिया।

Itni Shiddat Se Chaha Use Ki Khud Ko Bhi Bhula Diya,

Unke Liye Apne Dil Ko Kitni Hi Baar Rula Diya,

Ek Baar Hi Thukraya Unhone,

Aur Humne Khud Ko Maut Ki Neend Sula Diya.


ऐ मौत तुझे भी गले लगा लूँगा जरा ठहर,

अभी है आरज़ू सनम से लिपट जाने की।

Aye Maut Tujhe Bhi Gale Laga Lunga Jaraa Thahar,

Abhi Hai Aarzoo Sanam Se Lipat Jaane Ki.


वादे भी उसने क्या खूब निभाए हैं,

ज़ख़्म और दर्द तोहफे में भिजवाये है,

इस से बढ़कर वफ़ा की मिसाल क्या होगी,

मौत से पहले मौत का सामान ले आये है।

Vaade Bhi Usne Kya Khoob Nibhaye Hain,

Zakham Or Dard Tohfe Mein Bhijwaye Hai,

Is Se Badhkar Wafa Ki Misaal Kya Hogi,

Maut Se Pehle Maut Ka Saman Le Aaye Hai.


मेरी किसी खता पर नाराज न होना,

अपनी प्यारी सी मुस्कान कभी न खोना,

सुकून मिलता है देखकर आपकी हँसी को,

मुझे मौत भी आ जाये तो भी न रोना।

Maut Shayari

Meri Kisi Khata Par Naaraj Na Hona,

Apni Pyari Si Muskan Kabhi Na Khona,

Sukoon Milta Hai Dekh Kar Aapki Hansi Ko,

Mujhe Maut Bhi Aa Jaye Toh Bhi Na Rona.



Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  • 3
  •  
  •  
  •  
  •  
    3
    Shares
  •  
    3
    Shares
  •  
  •  
  •  
  •  
  • 3
  •  
Don`t copy text!