ShayariInfinity

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Bewafa Shayari In Dual Font

एक नजर भी देखना गवारा नहीं उसे,

जरा सा भी एहसास हमारा नहीं उसे,

वो साहिल से देखते रहे डूबना हमारा,

हम भी खुद्दार थे पुकारा नहीं उसे.


Ek Najar Bhi Dekhana Ganvaara Nahi Use,
Jara Sa Bhi Ehasaas Hamaara Nahi Use,
Vo Saahil Se Dekhate Rahe Doobana Hamaara,
Ham Bhi Khuddaar The Pukaara Nahi Use.


मेरे कलम से लफ्ज खो गए शायद,

आज वो भी बेवफा हो गए शायद,

जब नींद खुली तो पलकों में पानी था,

मेरे ख़्वाब मुझपे रो गए शायद


Mere Kalam Se Lafz Kho Gaye Shayad
Aaj Vo Bhi Bewafa Ho Gaye Shayad
Jab Neend Khuli To Palakon Mein Paani Tha
Mere Khvaab Mujh Pe Ro Gae Saayad


मत रख हमसे वफा की उम्मीद ऐ सनम,

हमने हर दम बेवफाई पायी है,

मत ढूंढ हमारे जिस्म पे जख्म के निशान,

हमने हर चोट दिल पे खायी है।

-Bewafa Shayari

Mat Rakh Hamse Wafa Ki Ummeed Ai Sanam,

Hamne Har Dam Bewafai Payi Hai,

Mat Dhoondh Hamare Jism Pe Jakhm Ke Nishan,

Hamne Har Chot Dil Pe Khaayi Hai.


बेवफ़ाई से ज्यादा क्या चीज होगी,

ग़म-ए-हालत जुदाई से बढ़कर क्या होगी,

जिसे देनी हो सज़ा उम्र भर के लिए,

सज़ा तन्हाई से बढ़कर और क्या होगी।


Bewafai Se Jyada Kya Cheez Hogi,

Gam-E-Haalat Judai Se Badhkar Kya Hogi,

Jise Deni Ho Saza Umr Bhar Ke Liye,

Saza Tanhayi Se Badhkar Aur Kya Hogi.

-Bewafa Shayari

मोहब्बत से रिहा होना ज़रूरी हो गया है,

मेरा तुझसे जुदा होना ज़रूरी हो गया है,

वफ़ा के तजुर्बे करते हुए तो उम्र गुजरी,

ज़रा सा बेवफा होना ज़रूरी हो गया है।


Mohabbat Se Riha Hona Jaruri Ho Gaya Hai,
Mera Tujhse Juda Hona Jaruri Ho Gaya Hai,
Vafa Ke Tajurbe Karte Hue To Umr Gujri,
Zara Sa Bevfa Hona Jaruri Ho Gaya Hai.



कौन कहता है हम उसके बिना मर जायेंगे,
हम तो दरिया है समंदर में उतर जायेंगे,
वो तरस जायेंगे प्यार की एक बून्द के लिए,
हम तो बादल है प्यार के किसी और पर बरस जायेंगे!!

Koun Kehta Hai Hum Uske Bina Mar Jayenge,

Hum to Dariya Hai Samundar Main Utar Jayenge,

Wo Taras Jayenge Pyar Ki Ek Bund Ke Liye…

Hum To Badal Hai Pyar Ke Kisi Aur Par Baras Jayenge!!

-Bewafa Shayari

दिल के दरिया में धड़कन की कश्ती है,

ख़्वाबों की दुनिया में यादों की बस्ती है,

मोहब्बत के बाजार में चाहत का सौदा है,

वफ़ा की कीमत से तो बेवफाई सस्ती है।

Dil Ke Dariya Mein Dhadakan Ki Kashti Hai,
Khwaabon Ki Duniya Mein Yaadon Ki Basti Hai,
Mohabbat Ke Baajaar Mein Chaahat Ka Sauda Hai,
Vafa Ki Keemat Se To Bevaphaee Sasti Hai.


तेरा ख्याल दिल से मिटाया नहीं अभी,

बेवफा मैंने तुझको भुलाया नहीं अभी।

Tera Khayal Dil Se Mitaya Nahi Abhi,

BeWafa Maine Tujhko Bhulaya Nahi Abhi.


यूँ है सबकुछ मेरे पास बस दवा-ए-दिल नही,

दूर वो मुझसे है पर मैं उस से नाराज नहीं,

मालूम है अब भी मोहब्बत करता है वो मुझसे,

वो थोड़ा सा जिद्दी है लेकिन बेवफा नहीं।

Yun To Hai Sabkuch Mere Pas Bas Dva-E-Dil Nahi,

Door Vo Mujhse Hai Par Main Us Se Naraaj Nahin,

Maloom Hai Ab Bhi Mohabbat Karta Hai Vo Mujhse,

Vo Thoda Sa Jiddi Hai Lekin Bevafa Nahin.

-Bewafa Shayari

ढूंढ़ तो लेते अपने प्यार को हम,

शहर में भीड़ इतनी भी न थी,

पर रोक दी तलाश हमने,

क्योंकि वो खोये नहीं बदल गए थे

Dhoondh To Lete Apane Pyaar Ko Hum,
Shehar Mein Bheed Itni Bhi Na Thi,
Par Rok Di Talaash Humane,
Kyonki Vo Khoye Nahin Badal Gaye The


हमें न मोहब्बत मिली न प्यार मिला,

हमको जो भी मिला बेवफा यार मिला,

अपनी तो बन गई तमाशा ज़िन्दगी,

हर कोई मकसद का तलबगार मिला।

Hamein Na Mohabbat Mili Na Pyar Mila,

Humko Jo Bhi Mila Bewafa Yaar Mila,

Apni To Ban Gayi Tamasha Zindagi,

Har Koyi Maksad Ka Talabgaar Mila.


बहुत अजीब हैं ये मोहब्बत करने वाले,

बेवफाई करो तो रोते हैं और वफा करो तो रुलाते हैं।

Bahut Ajeeb Hain Ye Mohabbat Karne Wale,

Bewafai Karo To Rote Hain Aur Wafa Karo To Rulate Hain.


न रहा कर उदास ऐ दिल

किसी बेवफा की याद में,

वो खुश है अपनी दुनिया में

तेरा सबकुछ उजाड़ के।

Na Raha Kar Udaas Ai Dil
Kisi Bewafa Ki Yaad Mein,
Vo Khush Hai Apni Duniya

Mein Tera Saba Kuchh Ujaad Ke.


जिनकी शायरियों में दर्द होता है

वो शायर नही किसी बेवफा का दीवाना होता है।

Jinki Shayariyo Mein Dard Hota Hai,

Wo Shayar Nahi Kisi Bewafa Ka Deewana Hota Hai.


पहले ज़िन्दगी छीन ली मुझसे,

अब मेरी मौत का वो फायदा उठाती है,

मेरी कब्र पे फूल चढ़ाने के बहाने,

वो किसी और से मिलने आती है।

Pehle Zindagi Chheen Li Mujhse,

Ab Meri Maut Ka Fayeda Uthati Hai,

Meri Qabr Pe Phool Chadaane Ke Bahane,

Wo Kisi Aur Se Milane Aati Hai.


तू भी आईने की तरह बेवफा निकला,

जो सामने आया उसी का हो गया.

Tu Bhi Aaine Ki Tarah Bewafa Nikla,

Jo Samne Aaya Usi Ka Ho Gaya.


ट्रैफिक सिग्नल पर आज उसकी याद आ गई,

रंग उसने भी अपना कुछ इसी तरह बदला था।

Traffic Signal Par Aaj Usaki Yaad Aa Gayi,
Rang Usne Bhi Apna Kuchh Isi Tarah Badla Tha.


क्या जानो तुम बेवफाई की हद दोस्तों,

वो हमसे इश्क सीखती रही किसी ओर के लिए।

Kya Jano Tum Bewafai Ki Had Dosto,

Wo Hamse Ishq Seekhti Rahi Kisi Or Ke Liye.


इतना गुरुर है तो मुकाबला

इश्क से कर ऐ बेवफा,

हुस्न पर क्या इतराना

जो मेहमान है कुछ दिन का।

Itna Guroor Hai To Muqabla

Ishq Se Kar Ai Bewafa,

Husn Par Kya Itrana

Jo Mehman Hai Kuchh Din Ka.


बेवफा से दिल लगा लिया नादान थे हम,

गलती हमसे हुई क्योंकि इंसान थे हम,

आज जिन्हें नज़रें मिलाने में तकलीफ होती है,

कुछ समय पहले उनकी जान थे हम।

Bewafa Se Dil Laga Liya Naadaan The Hum,
Galati Humse Hui Kyonki Insaan The Hum,
Aaj Jinhen Nazaren Milaane Mein Takleef Hoti Hai,
Kuchh Samay Pehle Unki Jaan The Hum.


कैसे यकीन करें हम तेरी मोहब्बत का,

जब बिकती है बेवफाई तेरे ही नाम से।

Kaise Yakeen Karein Hum Teri Mohabbat Ka,

Jab Bikti Hai Bewafai Tere Hi Naam Se.


उन्हें एहसास हुआ है इश्क़ का हमें रुलाने के बाद,

अब हम पर प्यार आया है दूर चले जाने के बाद,

क्या बताएं किस कदर बेवफ़ा है यह दुनिया,

यहाँ लोग भूल जाते हैं किसी को दफनाने के बाद।

Unhen Ehsaas Hua Hai Ishq Ka Hame Rulane Ke Baad,

Ab Ham Par Pyar Aaya Hai Door Chale Jaane Ke Baad,

Kya Bataen Kis Kadar Bewafa Hai Yeh Duniya,

Yahan Log Bhool Jaate Hain Kisi Ko Dafanane Ke Baad.


बिखरे हुए दिल ने भी उसके लिए फरियाद मांगी,

मेरी साँसों ने भी हर पल उसकी ख़ुशी मांगी,

जाने क्या मोहब्बत थी उस बेवफ़ा में,

कि मैंने आखिरी फरियाद में भी उनकी वफ़ा मांगी।

Bikhre Huye Dil Ne Bhi Uske Liye Fariyaad Mangi,

Meri Sanson Ne Bhi Har Pal Usaki Khushi Maangi,

Jaane Kya Mohabbat Thi Us Bewafa Mein,

Ki Maine Aakhiri Fariyaad Mein Bhi Unki Wafa Maangi.


लफ्ज़ वही हैं, माईने बदल गये हैं !

किरदार वही, अफ़साने बदल गये हैं !

उलझी ज़िन्दगी को सुलझाते सुलझाते !

ज़िन्दगी जीने के बहाने बदल गये हैं !!

Lafz Vahi Hain, Mayne Badal Gaye Hain !
Kiradaar Vahi, Afsaane Badal Gaye Hain !
Ulajhi Zindagi Ko Sulajhaate Sulajhaate !
Zindagi Jeene Ke Bahaane Badal Gaye Hain !!


वफा की तलाश करते रहे हम

बेवफाई में अकेले मरते रहे हम,

नहीं मिला दिल से चाहने वाला

खुद से ही बेबजह डरते रहे हम,

लुटाने को हम सब कुछ लुटा देते

मोहब्बत में उन पर मिटते रहे हम,

खुद दुखी हो कर खुश उन को रखा

तन्हाईयों में साँसें भरते रहे हम,

वो बेवफाई हम से करते ही रहे

दिल से उन पर मरते रहे हम।

Wafa Ki Talash Karte Rahe Hum,

Bewafai Mein Akele Marte Rahe Hum,

Nahi Mila Dil Se Chahne Wala,

Khud Hi Bewajah Darte Rahe Hum,

Lutaane Ko Hum Sab Kuchh Luta Dete,

Mohabbat Mein Unn Par MitTe Rahe Hum,

Khud Dukhi Hokar Khush Unko Rakha,

Tanhaion Mein Saansein Bharte Rahe Hum,

Woh Bewafai Hum Se Karte Hi Rahe,

Dil Se Unn Par Marte Rahe Hum.


मुस्कुरा देता हूँ अक्सर देखकर पुराने खत तेरे,

तू झूठ भी कितनी सच्चाई से लिखती थी।

Muskura Deta Hoon Aksar DekhKar Puraane Khat Tere,

Tu Jhuth Bhi Kitni Sachchai Se Likhti Thi.


सिर्फ एक ही बात सीखी इन हुस्न वालों से हमने​​,

​हसीन जिसकी जितनी अदा है वो उतना ही बेवफा है।

Sirf Ek Hi Baat Seekhi Inn Husn Walon Se Humne,

Haseen Jis Ki Jitni Adaa Hai Woh Utna Hi Bewafa Hai.


उसकी याद में हम बरसों रोते रहे,

बेवफ़ा वो निकले बदनाम हम होते रहे,

प्यार में मदहोशी का आलम तो देखिये,

धूल चेहरे पर थी और हम आईना साफ़ करते रहे।

Uski Yaad Mein Ham Barson Rote Rahe,

Bewafa Wo Nikle Badnaam Ham Hote Rahe,

Pyar Mein Madhoshi Ka Aalam To Dekhiye,

Dhool Chehare Par Thi Aur Ham Aaina Saaf Karte Rahe.


हर भूल तेरी माफ़ की तेरी हर खता को भुला दिया,

गम है कि मेरे प्यार का तूने बेवफाई सिला दिया।

Har Bhool Teri Maaf Ki Teri Har Khata Ko Bhula Diya,

Gam Hai Ki Mere Pyar Ka Tu Ne Bewafai Sila Diya.


ऐ दोस्त कभी ज़िक्र-ए-जुदाई न करना,

मेरे भरोसे को रुस्वा न करना,

दिल में तेरे कोई और बस जाये तो बता देना,

मेरे दिल में रहकर बेवफाई न करना।

Ai Dost Kabhi Zikr-E-Judai Na Karna,

Mere Bharose Ko Rusva Na Karna,

Dil Mein Tere Koyi Aur Bas Jaaye To Bata Dena,

Mere Dil Mein Rahkar Bewafai Na Karna.


कैसी अजीब तुझसे यह जुदाई थी,

कि तुझे अलविदा भी ना कह सका,

तेरी सादगी में इतना फरेब था,

कि तुझे बेवफा भी न कह सका।

Kaisi Ajeeb Tujhse Ye Judaai Thi,

Ki Tujhe Alvida Bhi Na Keh Saka,

Teri Saadgi Mein Itna Fareb Tha,

Ki Tujhe Bewafa Bhi Na Keh Saka.


समेट कर ले जाओ अपने झूठे वादों के अधूरे क़िस्से

अगली मोहब्बत में तुम्हें फिर इनकी ज़रूरत पड़ेगी।

Samet Kar Le Jao Apne Jhoothe Vaadon Ke Adhure Kisse,

Agli Mohabbat Mein Tumhein Phir Inki Zarurat Padegi.


गुनाह करके सज़ा से डरते हैं,

पी के ज़हर दवा से डरते हैं,

दुश्मनों के सितम का खौफ नहीं हमको,

हम तो दोस्तों की बेवफाई से डरते हैं।

Gunaah Karke Saza Se Darte Hain,

Pee Ke Zahar Dava Se Darte Hain,

Dushmano Ke Sitam Ka Khauf Nahi Hamko,

Ham To Doston Ki Bewafai Se Darte Hain.


गम नहीं कि तुम बेवफा निकले,

मगर अफ़सोस तो इस बात का है,

वो सब लोग सच निकले,

जिनसे हम तुम्हारे लिए लड़े थे।

Gham Nahi Ke Tum Bewafa Nikle,

Magar Afsos To Iss Baat Ka Hai,

Wo Sab Log Sach Nikle,

Jin Se Main Tumhare Liye Lada Tha.


खुदा ने पूछा क्या सज़ा दूँ उस बेवफा को,

दिल ने कहा मोहब्बत हो जाए उसे भी।

Khuda Ne Puchha Kya Saza Doon Uss Bewafa Ko,

Dil Ne Kaha Mohabbat Ho Jaye Usey Bhi.


फूलों के साथ काँटे नसीब होते हैं,

ख़ुशी के साथ ग़म भी नसीब होता है,

यूँ तो मजबूरी ले डूबती हर आशिक को,

वरना खुशी से बेवफ़ा कौन होता है?

Phool Ke Sath Kaante Bhi Naseeb Hote Hai,

Khushi Ke Sath Gham Bhi Naseeb Hota Hai,

Yoon To Majboori Le Doobti Hai Har Aashiq Ko,

Varna Khushi Se Bewafa Kaun Hota Hai?


जब तक न लगे बेवफाई की ठोकर,

हर किसी को अपनी पसंद पर नाज़ होता है।

Jab Tak Na Lage Bewafai Ki Thokar,

Har Kisi Ko Apni Pasand Par Naaz Hota Hai.


गुज़रे दिनों की भूली हुई बात की तरह,

आँखों में जागता है कोई रात की तरह,

उससे उम्मीद थी की निभाएगा साथ वो,

वो भी बदल गया मेरे हालात की तरह।

Gujre Dino Ki Bhooli Huyi Baat Ki Tarah,

Aankho Mein Jagta Hai Koyi Raat Ki Tarah,

Us Se Umeed Thi Ki Nibhayega Saath Wo,

Wo Bhi Badal Gaya Mere Halaat Ki Tarah.


इतनी मुश्किल भी ना थी

राह मेरी मोहब्बत की,

कुछ ज़माना खिलाफ हुआ

कुछ वो बेवफा हो गए।

Itni Mushkil Bhi Na Thi

Raah Meri Mohabbat Ki,

Kuchh Zamana Khilaaf Hua

Kuchh Woh Bewafa Ho Gaye.


कहाँ से लाऊं वो शब्द जो तेरी तारीफ के क़ाबिल हो,

कहाँ से लाऊं वो चाँद जिसमें तेरी ख़ूबसूरती शामिल हो,

ए मेरे बेवफा सनम एक बार बता दे मुझकों,

कहाँ से लाऊं वो किस्मत जिसमें तू बस मुझे हांसिल हो।

Kahan Se Laaun Wo Shabd Jo Teri Tareef Ke Qabil Ho,

Kahan Se Laaun Wo Chand Jisme Teri Khoobasurti Shamil Ho,

Ai Mere Bewafa Sanam Ek Baar Bata De Mujhko,

Kahan Se Laaun Wo Kismat Jismen Tu Bas Mujhe Hansil Ho.


तेरी तो फितरत थी

सबसे मोहब्बत करने की,

हम बेवजह खुद को

खुशनसीब समझने लगे।

Teri Toh Fitrat Thi

Sabse Mohabbat Karne Ki,

Hum Bewajah Khud Ko

KhushNaseeb Samjhne Lage.


उसने महबूब ही तो बदला है फिर ताज्जुब कैसा,

दुआ कबूल ना हो तो लोग खुदा तक बदल लेते है।

Usne Mahboob Hi To Badla Hai Fir Tajjub Kaisa,

Dua Kabool Na Ho To Log Khuda Tak Badal Dete Hain.


प्यार किया था तो प्यार का अंजाम कहाँ मालूम था,

वफ़ा के बदले मिलेगी बेवफाई कहाँ मालूम था,

सोचा था तैर के पार कर लेंगे प्यार के दरिया को,

पर बीच दरिया मिल जायेगा भंवर कहाँ मालूम था।

Pyar Kiya Tha To Pyar Ka Anjam Kahan Maaloom Tha

Wafa Ke Badle Milegi Bewafai Kahan Maalum Tha,

Socha Tha Tair Ke Par Kar Lenge Pyar Ke Dariya Ko

Par Beech Dariya Mil Jayega Bhanvar Kahan Malum Tha.


तुम बदले तो मजबूरियाँ थी,

हम बदले तो बेवफ़ा हो गए।

Tum Badle To Mazbooriyan Thi,

Hum Badle To Bewafa Ho Gaye.


बर्बाद कर गए वो ज़िंदगी प्यार के नाम से,

बेवफाई ही मिली हमें सिर्फ वफ़ा के नाम से,

ज़ख़्म ही ज़ख़्म दिए उसने दवा के नाम से,

आसमान भी रो पड़ा मेरी मोहब्बत के अंजाम से

Barbaad Kar Gaye Wo Zindagi Pyar Ke Naam Se,

Bewafai Hi Mili Hamen Sirf Wafa Ke Naam Se,

Zakhm Hi Zakhm Diye Usne Dava Ke Naam Se,

Aasman Bhi Ro Pada Meri Mohabbat Ke Anjaam Se.


आज तुम्हारी याद ने मुझे रुला दिया,

क्या करूँ तुमने जो मुझे भुला दिया,

न करते वफ़ा न मिलती ये सजा,

मेरी वफ़ा ने तुझे बेवफा बना दिया।

Aaj Tumhari Yaad Ne Mujhe Rula Diya,

Kya Karun Tumne Jo Mujhe Bhula Diya,

Na Karte Wafa Na Milti Ye Saza,

Meri Wafa Ne Tujhe Bewafa Bana Diya.


कुछ तो बेवफाई है मुझ में भी,

जो अब तक जिंदा हूँ तेरे बग़ैर।

Kuchh To BeWafai Hai Mujh Mein Bhi,

Jo Ab Tak Zinda Hoon Tere Bagair.


कभी ग़म तो कभी तन्हाई मार गयी,

कभी याद आ कर उनकी जुदाई मार गयी,

बहुत टूट कर चाहा जिसको हमने,

आखिर में उनकी ही बेवफाई मार गयी।

Kabhi Gham Toh Kabhi Tanhai Maar Gayi,

Kabhi Yaad Aakar Unki Judai Maar Gayi,

Bahut Toot Kar Chaha Jisko Humne,

Aakhir Mein Uski Bewafai Maar Gayi.


काश कि हम उनके दिल पे राज़ करते,

जो कल था वही प्यार आज करते,

हमें ग़म नहीं उनकी बेवफाई का,

बस अरमां था कि…

हम भी अपने प्यार पर नाज़ करते।

Kaash Ki Ham Unke Dil Pe Raaz Karte,

Jo Kal Tha Wahi Pyar Aaj Karte,

Hamen Gam Nahin Unki Bewahai Ka,

Bas Araman Tha Ki…

Ham Bhi Apne Pyar Par Naaz Karte.


अगर दुनिया में जीने की चाहत ना होती,

तो खुदा ने मोहब्बत बनाई ना होती,

इस तरह लोग मरने की आरज़ू ना करते,

अगर मोहब्बत में बेवफ़ाई ना होती।

Agar Duniya Mein Jeene Ki Chahat Na Hoti,

Toh Khuda Ne Mohabbat Banayi Na Hoti,

Iss Tarah Log Marne Ki Aazoo Na Karte,

Agar Mohabbat Mein Bewafai Na Hoti.



Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
Don`t copy text!