ShayariInfinity

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Table of Contents

Maa Shayari

चलती फिरती आंखों से अजां देखी है,
मैंने जन्नत तो नहीं देखी लेकिन मां देखी है।

Chalti Firti Aankhon Se Anja Dekhi Hai,
Maine Jannat To Nahi Dekhi Lekin Maa Dekhi Hai


जन्नत का हर लम्हा, दीदार किया था,
गोद मे उठाकर जब माँ ने प्यार किया था।

Maa Shayari

Jannat Ka Har Lamha, Deedaar Kiya Tha,
God Me Uthakar Jab Maa Ne Pyar Kiya Tha.


 हजारो गम हो फिर भी मै खुशी से फूल जाता हूँ,
जब हंसती है मेरी माँ , मै हर गम भूल जाता हूँ

Maa Shayari

Hazaro Gam Ho Fir Bhi Main Khushi Se Phol Jata Hoon,
Jab Hasti Hai Meri Maa, Main Har Gam Bhool Jata Hoon


कहते है कि पहला प्यार कभी भुलाया नही जाता,
फिर पता नही लोग क्यो अपने माँ-बाप का प्यार भूल जाते है।

Kehte Hai Pehla Pyaar Kabhi Bhulaya Nahi Jata,
Fir Pta Nahi Log Kyun Apne Maa-Baap Ka Pyaar Bhul Jate Hai


माँ की तरह कोई और ख्याल रख पाये,
ये तो बस ख्याल ही हो सकता है…

Maa Ki Trah Koi Aur Khyal Rakh Paye,
Ye To Bas Khyal Hi Ho Sakta Hai

-Maa Shayari


मुझे मेरी माँ ने बताया,
जब तक तुम डरते रहोगे,
तुम्हारी जिन्दगी के फैसले कोई और लेता रहेगा।

Mujhe Meri Maa Ne Btaya,
Jab Tak Tum Darte Rahoge,
Tumhari Zindagi Ke Faisle Koi Aur Leta Rahega


सख्त राहों में भी आसान सफर लगता है,
यह मेरी मां की दुआओं का असर लगता है।

Sakht Raaho Main Bhi Aasan Safar Lagta Hai,
Yeh Meri Maa Di Duaon Ka Asar Lagta Hai

-Maa Shayari


किसी भी मुश्किल का अब किसी को हल नहीं मिलता,
शायद अब घर से कोई मां के पैर छूकर नहीं निकलता।

Kisi Bhi Mushkil Ka Ab Kisi Ko Hal Nahi Milta,
Shayad Ab Ghar Se Koi Maa Ke Pair Chukar Nahi Nikalta.


हर मंदिर, हर मस्जिद और हर चौखट पर माथा टेका,
दुआ तो तब कबूल हुई जब मां के पैरों में माथा टेका।

Har Mandir, Har Masjid Aur Har Chaukhat Par Maatha Teka,
Dua To Tab Kabool Hui Jab Maa Ke Pairon Main Maatha Teka.

-Maa Shayari


पहाड़ो जैसे सदमे झेलती है उम्र भर लेकिन,
इक औलाद की तकलीफ़ से माँ टूट जाती है।

Pahado Jaise Sadme Jhelti Hai Umr Bhar Lekin,
Ik Aulad Ki Takleef Se Maa Toot Jati Hai.


जिसके होने से मैं खुद को मुक्कम्मल मानता हूँ,
मैं खुदा से पहले मेरी माँ को जानता हूँ।

Jiske Hone Se Main Khud Ko Mukammal Manta Hoon
Main Khuda Se Pehle Meri Maa Ko Janta Hoon


नहीं हो सकता कद तेरा ऊँचा किसी भी माँ से ऐ खुदा,
तू जिसे आदमी बनाता है, वो उसे इंसान बनाती है।

Nahi Ho Sakta Kad Tera Uncha Kisi Bhi Maa Se Ai Khud,
Tu Jise Aadmi Banata Hai Woh Use Insaan Banati Hai.

कोई कितना भी अच्छा क्यूँ ना हो,
माँ की कमी को कोई पूरा नही कर सकता।

Koi Kitna Bhi Acha Kyu Naa Ho,
Maa Ki Kami Koi Pura Nahi Kar Sakta


है गरीब मेरी माँ फिर भी मेरा ख्याल रखती है,
मेरे लिए रोटी और अपने लिए पतीले की खुरचन रखती है।

Hai Gareeb Meri Maa Phir Bhi Mera Khyal Rakhti Hai,
Mere Liye Roti Aur Apne Liye Pateele Ki Khurchan Rakhti Hai.

-Maa Shayari


सीधा साधा भोला भाला मैं ही सब से सच्चा हूँ,
कितना भी हो जाऊं बड़ा माँ आज भी तेरा बच्चा हूँ।

Seedha Sadha Bhola Bhala Main Hi Sabse Achchha Hoon,
Kitna Bhi Ho Jaaun Bada Maa Aaj Bhi Tera Bachcha Hoon.


मां वो सितारा है जिसकी गोद में जाने के लिए हर कोई तरसता है,
जो मां को नहीं पूछते वो जिंदगी भर जन्नत को तरसता है।

Maa Vo Sitara Hai Jiski Gaud Main Jane Ke Liye Har Koi Tarasta Hai,
Jo Maa Ko Nahi Puchte Vo Zindagi Bhar Jannat Ko Tarasta Hai


बालाएं आकर भी मेरी चौखट से लौट जाती हैं,
मेरी माँ की दुआएं भी कितना असर रखती हैं।

Baalaen Aakar Bhi Meri Chaukhat Se Laut Jaati Hain,
Meri Maa Ki Duayen Bhi Kitna Asar Rakhti Hain.

-Maa Shayari


माँ की बूढी आंखों को अब कुछ दिखाई नहीं देता,
लेकिन वर्षों बाद भी आंखों में लिखा हर एक अरमान पढ़ लिया।

Maa Ki Budi Aankhon Ko Ab Kuch Dikhai Nahi Deta,
Lekin Varshon Baad Bhi Aankhon Main Likha Har Ek Armaan Pad Liya



हर घड़ी दौलत कमाने में इस तरह मशरूफ रहा मैं,
पास बैठी अनमोल मां को भूल गया मैं।

Har Ghadi Daulat Kmaane Main Is Tarah Mashroof Raha Main
Pass Baithi Anmol Maa Ko Bhul Gya Main

Maa Shayari


कोई दुआ असर नहीं करती,
जब तक वो हम पर नजर नहीं करती,
हम उसकी खबर रखे न रखे,
वो कभी हमें बेखबर नहीं करती।

Koi Dua Asar Nahin Karati,
Jab Tak Wo Ham Par Najar Nahin Karti,
Ham Uski Khabar Rakhe Na Rakhe,
Wo Kabhi Hamen Bekhabar Nahin Karti.

-Maa Shayari


दुआ है रब से वो शाम कभी ना आए,
जब माँ दूर मुझसे हो जाए।

Dua Hai Rab Se Vo Sham Kabhi Na Aaye,
Jab Maa Dur Mujhse Ho Jaye.


यूं ही नहीं गूंजती किलकारियां‬ घर आँगन‬ के कोने में,
जान ‎हथेली‬ पर रखनी‪ पड़ती है “माँ” को “‪माँ‬” होने में।

Yun Hi Nahin Goonjti Kilakariyan‬ Ghar Aangan‬ Ke Kone Mein,
Jaan ‎Hatheli‬ Par Rakhni‪ Padti Hai “Maa” Ko “‪Maa‬” Hone Mein.

Maa Shayari


Maa Ke Liye Shayari

सर पर जो हाथ फेरे तो हिम्मत मिल जाये,
माँ एक बार मुस्कुरा दे तो जन्नत मिल जाये।

Sar Par Jo Haath Fere To Himmat Mil Jaye,
Maa Ek Baar Muskura De To Jannat Mil Jaye.


जब जब कागज पर लिखा, मैने “माँ” का नाम,
कलम अदब से बोल उठी, हो गये चारो धाम।

Jab Jab Kagaz Par Likha, Maine “Maa” Ka Naam,
Kalam Adab Se Bol Uthi, Ho Gaye Chaaro Dham.


रूह के रिश्तो की यह गहराइयां तो देखिए,
चोट लगती है हमें और दर्द मां को होता है।

Rooh Ke Rishton Ki Yeh Gehraiyan To Dekhiye,
Chot Lagti Hai Humen Aur Dard Maa Ko Hota Hai


भूख तो एक रोटी से भी मिट जाती माँ,
अगर थाली की वो रोटी तेरे हाथ की होती।

Bhookh To Ek Roti Se Bhi Mit Jaati Maa,
Agar Thali Ki Wo Roti Tere Haath Ki Hoti.

-Maa Shayari


Mothers Day Shayari

मेरी तक़दीर में कभी कोई गम नही होता,
अगर तक़दीर लिखने का हक़ मेरी माँ को होता।

Meri Taqdeer Mein Kabhi Koi Gam Nahi Hota,
Agar Taqdeer Likhne Ka Haq Meri Maa Ko Hota.


कौन सी है वो चीज़ जो यहाँ नहीं मिलती,
सब कुछ मिल जाता है पर माँ नहीं मिलती।

Kaun Si Hai Wo Cheez Jo Yahan Nahin Milti,
Sab Kuchh Mil Jata Hai Par Maa Nahi Milati.

Maa Shayari


तकिए बदले हमने बेशुमार लेकिन तकिए हमें सुलाते नहीं,
बेखबर थे हम कि तकिए में मां की गोद को तलाशते नहीं।

Takiye Badle Humne Beshumar Lekin Takiye Humen Sulate Nahi,
Bekhabar The Hum Ki Takiye Main Maa Ki Gaud Ko Talashte Nahi

Maa Shayari


Mom Shayari

माँग लूँ यह दुआ कि फिर यही जहाँ मिले,
फिर वही गोद मिले फिर वही माँ मिले।

Maang Lun Yeh Duaa Ke Fir Yahi Jahaan Mile,
Fir Wahi God Mile Fir Wahi Maa Mile.


भटकती हुई राहों की धूल था मैं
जब मां के चरणों को छुआ तो
चमकता हुआ सितारा बन गया।

Bhatkti Hui Raahon Ki Dhool Tha Main
Jab Maa Ke Charno Ko Chhua To
Chamakta Hua Sitara Bn Gya.


घुटनों से रेंगते-रेंगते जब पैरों पर खड़ा हुआ,
माँ तेरी ममता की छाँव में जाने कब बड़ा हुआ।

Ghutno Se Rengate-Rengate Kab Pairon Par Khada Hua,
Maa Teri Mamta Ki Chhanv Mein Jaane Kab Bada Hua.


ठोकर न मार मुझे पत्थर नहीं हूँ मैं,
हैरत से न देख मुझे मंज़र नहीं हूँ मैं,
तेरी नज़रों में मेरी क़दर कुछ भी नहीं,
मेरी माँ से पूछ उसके लिए क्या नहीं हूँ मैं।

Thokar Na Maar Mujhe Patthar Nahi Hun Main,
Hairat Se Na Dekh Mujhe Manzar Nahi Hun Main.
Teri Nazaron Me Meri Kadar Kuchh Bhi Nahi,
Meri Maa Se Pooch Uske Liye Kya Nahi Hun Main.


Maa Poetry

माँ तो जन्नत का फूल है,
प्यार करना उसका उसूल है,
दुनिया की मोहब्बत फिजूल है,
माँ की हर दुआ कबूल है,
माँ को नाराज करना इंसान तेरी भूल है,
माँ के कदमों की मिट्टी जन्नत की धूल है।

Read More : Ghalib Shayari


Maa To Jannat Ka Phool Hai,
Pyaar Karna Uska Usool Hai,
Duniya Ki Mohabbat Fijool Hai,
Maa Ki Har Dua Kabool Hai,
Maa Ko Naraaj Karna Insaan Teri Bhul Hai.
Maa Ke Kadmo Ki Mitti Jannat Ki Dhool Hai.


भरे घर में तेरी आहट मिलती नहीं अम्मा
तेरी बाहों की नरमाहट कहीं मिलती नहीं अम्मा
मैं तन पर लादे फिरता हूँ दुशाले रेशमी लेकिन
तेरी गोदी की गरमाहट कहीं मिलती नहीं अम्मा

Bhare Ghar Mein Teri Aahat Milti Nae Maa
Teri Bahon Ki Narmahat Kahi Milti Nae Maa
Main Tan Par Laade Firta Hun Dushaale Reshmi Lekin
Teri Godi Ki Garmaahat Kahi Milti Nahi Maa


किसी की नज़रों में मैं भले कम लगूँ ,
फर्क नहीं पड़ता मुझे कुछ ऐसा हुँ मैं,
हाँ जो खुद पे शक हो आये कभी तो,
बस अपनी माँ से पूछ लेता हुँ कि बता कैसा हूँ मैं।

Kisi Ki Nazron Me Main Bhale Km Lagoon,
Fark Nahi Padta Mujhe Kuch Aisa Hoon Main,
Haa Jo Khud Pe Shak Aaye Kabhi To,
Bas Apni Maa Se Puch Leta Hoon Ki Bta Kaise Hoon Main.


रब से करू दुआ बार-बार
हर जन्म मिले मुझे माँ का प्यार
खुदा कबूल करे मेरी मन्नत
फिर से देना मुझे माँ के आंचल की जन्नत।

maa shayari

Rab Se Dua Karun Bar-Bar
Har Janam Mile Mujhe Maa Ka Pyar
Khuda Kabul Kare Meri Mannat
Fir Se Dena Mujhe Maa Ke Aanchal Ki Jannat


जब-जब कागज पर लिखा मैंने माँ का नाम,
कलम अदब से बोल उठी हो गये चारों धाम।

Jab Jab Kagaj Par Likha Maine Maa Ka Naam,
Kalam Adab Se Bol Uthi Ho Gaye Charo Dhaam.


Maa Status In Hindi

एक मुद्दत से मेरी माँ नहीं सोई…
मैंने इक बार कहा था मुझे डर लगता है।

Ek Muddat Se Meri Maa Nahin Soyi…
Maine Ik Baar Kaha Tha Mujhe Dar Lagta Hai.


ए मुसीबत जरा सोच के आ मेरे करीब,
कही मेरी माँ की दुआ तेरे लिए मुसीबत ना बन जाये।

Ai Musibat Jara Soch Ke Aa Mere Kareeb,
Kahin Meri Maa Ki Dua Tere Liye Museebat Na Ban Jaaye.


उसके होंठों पे कभी बद्दुआ नहीं होती,
बस इक माँ है जो कभी खफा नहीं होती।

Uske Hontho Pe Kabhi Bad-dua Nahi Hoti,
Bas Ek Maa Hai Jo Kabhi Khafa Nahi Hoti.


किसी को घर मिला हिस्से में या कोई दुकान आयी…
मैं घर में सब से छोटा था मेरे हिस्से में माँ आई!

Kisi Ko Ghar Mila Hisse Mein Ya Koi Dukan Aayi…
Main Ghar Mein Sab Se Chhota Tha Mere Hisse Mein Maa Aayi!


Maa Par Shayari

दुनिया में मुझे जो भी और जितना भी मिला है…
सब कुछ मेरी माँ की दुआओं का सिला है!

Duniya Mein Mujhe Jo Bhi Aur Jitna Bhi Mila Hai…
Sab Kuchh Meri Maa Ki Duaon Ka Sila Hai!


कल अपने-आप को देखा था माँ की आँखों में… 
ये आईना हमें बूढ़ा नहीं बताता है!

Kal Apne-Ap Ko Dekha Tha Maa Ki Ankhon Mein…
Ye Aaina Hamen Budha Nahin Batata Hai!


पूछता है दुनिया में जब कोई…
मुहब्बत कहाँ है!
मुस्कराता हूँ और याद आ जाती है माँ…

Pochata Hai Duniya Mein Jab Koi…
Muhabbat Kahaan Hai!
Muskarata Hoon Aur Yaad Aa Jaati Hai MAA…


मुद्दतों बाद मिला है माँ का आँचल,
मुद्दतों बाद आज नींद सुहानी आयी.

Muddaton Baad Mila Hai Maa Ka Anchal,
Muddaton Baad Aj Need Suhaani Aayi.


समन्दर की स्याही बनाकर शुरू किया था लिखना,
 खत्म हो गई स्याही मगर माँ की तारिफ बाकी है।

Samandar Ki Syahi Bnakar Shuru Kiya Tha Likhna
Khatam Ho Gyi Syahi Lekin Abhi Likhna Baki Hai


मैं रात भर जन्नत की सैर करता रहा यारों,
सुबह आँख खुली तो सर ‘माँ’ के कदमो में था..

Main raat bhar Jannat ki Sair krta rha yaro,
Subah Aankh khuli to Sar ‘Maa’ ke Kadmo mein tha..


बिना बताये ही वो हर बात जान जाती है,
वो माँ ही तो अपनी दोस्त बन जाती है,
गर हो कोई मुसीबत आये तो ढाल बन जाती है,
वो माँ ही जो दुआ बन जाती है।

Bina Btaye Hi Vo Har Baat Jaan Jati Hai
Vo Maa Hi To Apni Dost Bn Jati Hai
Agr Ho Koi Musibat To Dhaal Bn Jati Hai,
Vo Maa Hi Jo Dua Bn Jati Hai


डांट कर बच्चो को खुद अकेले मे रोती है,
वो माँ है साहब, जो ऐसी ही होती है।

Daant Kar Bachon Ko Khud Akele Main Roti Hai,
Vo Maa Hai Sahib,Jo Aisi Hi Hoti Hai


हर पल में ख़ुशी देती है माँ,
अपनी ज़िन्दगी से जीवन देती है माँ..
भगवन क्या है माँ की पूजा करो जनाब!!!
क्योंकि भगवान को भी जनम देती है माँ..

Har Pal mein khushi deti hai Maa,
Apni Zindagi se Jeevan deti hai Maa..
Bhagwan kya hai Maa ki Pooja karo Jnab!!!
Kyunki Bhagwan ko bhi janam deti hai Maa..


बाबा के चले जाने के बाद माँ को पूरे घर की ज़िम्मेदारी उठाते देखा है,
कुछ इस तरहा मैंने माँ को भी मेरा बाप बनते देखा है।

Baba Ke Chale Jane Ke Baad Ma Ko Pure Ghar Ki Jimmedari Uthate Dekha Hai,
Kuch Is Trh Maine Maa Ko Bhi Mera Baap Bante Dekha Hai


फना करदो अपनी सारी ज़िन्दगी, अपनी ‘माँ’ के कदमो में यारो..
दुनिया में यही एक मोहब्बत है, जिसमे बेवफाई नहीं मिलती..

Maa Shayari

Fnaa kardo apni sari Zindagi apn,i Maa ke kadmo mein yaro..
Duniya mein yahi ek Mohabbat, hai jisme Bewfai nahi milti..


लबो पे उसके कभी बद्दुआ नहीं होती,
बस एक माँ है जो मुझसे खफा नहीं होती ||

Labo pe uske kabhi Baddua nahi hoti,
Bass ek maa jo mujhse Khaffa nahi hoti.



Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
Don`t copy text!